एक नज़र में NCCT

राष्ट्रीय सहकारी प्रक्षिक्षण परिषद का गठन भारतीय राष्ट्रीय सहकारी संघ द्वारा इसकी उपविधियों के अंतर्गत भारत सरकार, कृषि मंत्रालय, कृषि एवं सहकारिता विभाग की सहमति से किया गया है। परिषद समूचे देश के सहकारी क्षेत्र में कार्यरत कार्मिको के सहकारी प्रशिक्षण के संगठन, निर्देशन, प्रबोधन, एवं मूल्यांकन के लिए उत्तरदाई है। परिषद का मुख्य उद्देश्य आवश्यकता पर आधारित प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करना था देश की सहकारिताओ में मानव संसाधन विकास की परिक्रियाओं को सुविधाजनक बनाना है। परिषद सहकारी आंदोलन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अनुसंधान कार्यकर्मों के संचालन पर भी विचार करती है।

परिषद ने राष्ट्रीय स्तर पर वैमनीकॉम पुणे, क्षेत्रीय स्तर पर चंडीगढ़, बेंगुलुरु, कल्याणी, गांधीनगर, एवं पटना में पाँच क्षेत्रीय सहकारी प्रबंध संस्थानो एवं देश के विभिन्न भागों में 14 सहकारी प्रबंध संस्थानों की स्थापना कर आफ्ना प्रशिक्षण ढांचा स्थापित किया है। परिषद देश के कनिष्ठ सहकारी केन्द्रो को भी शैक्षिकए शैक्षिक एवं वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

(A Grant-in-Aid Institution under Ministry of Agriculture, Government Of India)